सम्पूर्ण भारत का संविधान- Indian Constitution In Hindi PDF

    Constitution of indian

    हेल्लो दोस्तों कैसे हैं ? दोस्तों जैसा की आप सभी जानते हैं की हम आप सभी छात्र-छात्रों के लिए Daily प्रतियोगी परीक्षाओं (competitive Exams) से सम्बंधित विभिन्न जानकारियां और नोट्स शेयर करते हैं| दोस्तों हम आप सभी स्टूडेंट्स के लिए अपने इस पोस्ट के माध्यम से एक बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी शेयर कर रहे हैं जिसका नाम Indian Constitution और इसको हिंदी में सम्पूर्ण भारत का संविधान कहा जाता है। भारत के संविधान से जुड़े बहुत से प्र्श्न सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं इसलिए आप Notes को ज़रूर पढ़े |

    100 महत्वपूर्ण पुस्तकें एवं उनके लेखक 2018-आगामी परीक्षा के लिए  महत्वपूर्ण

    भारतीय सामविधान से जुड़े प्र्श्न लगभग हर Exams प्रतियोगी परीक्षा जैसे IBPS, PO, SSC, Railway, Clerck आदि में पूछे जाते हैं आज के ये नोट्स हम बहुत सारे छात्रों की डिमांड पर लेकर आए हैं क्यूँकि हमारे प्रतिदिन के छात्रों ने Indian Constitution के Notes की माँग की थी यदि आप भी हमारे Daily Visitor हैं और किसी भी प्रकार के Notes या PDF चाहते हैं तो आप Comment में माँग सकते हैं

    आप सभी इसे अच्छे से यद् कर के अपने-अपने होने वाली आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं (competitive Exams) की तैयारी करें| दोस्तों हम आप सभी के लिए इस पोस्ट Indian Constitution मे जितने भी जानकारी शेयर किये हुए हैं वो सारी आप सभी की होने वाली आगंमी प्रतियोगी परीक्षाओं (competitive Exams) में पूछे जायेंगे| और आप को इस्से बहौत लाभ मिले गा |

    ये भी देखे :-important days List of National and International Days

    भारत को संविधान देने वाले  नेता डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव में हुआ था। उन्होंने अपना सारा जीवन देश में समानता लेने के लिये अर्पण किया।

    भारत का संविधान, भारत का सर्वोच्च विधान है जो संविधान सभा द्वारा 26 नवम्बर 1949 को पारित हुआ तथा 26 जनवरी 1950 से प्रभावी हुआ। यह दिन (26 नवम्बर) भारत के संविधान दिवस के रूप में घोषित किया गया है जबकि 26 जनवरी का दिन भारत में गणतन्त्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत का संविधान विश्व के किसी भी गणतांत्रिक देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है।

    Indian Constitution Question In Hindi

    संविधान की मूल प्रति किसने हाथ से लिखी थी? भारतीय संविधान की मूल प्रति प्रेम बिहारी नारायण रायजादा ने हाथ से लिखी थी।
    संविधान की मूल प्रति कहां रखी है? भारतीय संविधान की हिंदी व अंग्रेजी की मूल प्रतियां भारतीय संसद की लाइब्रेरी में विशेष हीलियम भरे केस में रखी हुई हैं।
    संविधान में कितने अनुच्‍छेद हैं? भारतीय संविधान में 395 अनुच्‍छेद, 22 भाग और 12 अनुसूचियां हैं। भारतीय संविधान किसी संप्रभुता संपन्‍न देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है।
    संविधान को तैयार करने कितना समय लगा? भारतीय संविधान को पूर्ण रूप से तैयार करने में  2 वर्ष, 11 माह, 18 दिन का समय लगा था।
    संविधान सभा का अध्‍यक्ष कि‍से चुना गया था? भारतीय संविधान को तैयार करने के लिए संविधान सभा का निर्माण हुआ था। इसके अध्‍यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद चुने गए थे।
    संविधान सभा की पहली बैठक कब हुई थी? संविधान सभा की प्रथम बैठक 9 दिसंबर 1946 दिन सोमवार को हुई थी।
    संविधान पर कितने सदस्‍यों ने हस्‍ताक्षर किए थे?  संविधान सभा के 284 सदस्यों ने हस्‍ताक्षर किए थे। इनमें 15 महिलाएं थीं।
    देश में संविधान कि‍स दिन लागू हुआ था? पूरे भारत में 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू हुआ था।
    भारतीय संविधान की प्रस्‍तावना किस देश के संविधान से प्रेरित है? भारतीय संविधान की प्रस्तावना अमरीकी संविधान से प्रेरित है। दोनों देशों के संविधान में प्रस्तावना वी द पीपुल से शुरू होती है।

    • संविधान की प्रस्‍तावना में स्‍वतंत्रता, समानता व भ्रातृत्‍व के आदर्श कहां से लिए गए हैं?
    • भारतीय संविधान की प्रस्‍तावना में स्‍वतंत्रता, समानता व भ्रातृत्‍व के आदर्श फ्रांसीसी क्रांति से लिए गए हैं
    संविधान को तैयार करने कितना समय लगा? भारतीय संविधान को पूर्ण रूप से तैयार करने में  2 वर्ष, 11 माह, 18 दिन का समय लगा था।

     

    भारतीय संविधान के महत्वपूर्ण संबिधान संशोधन

    • 1st संविधान संशोधन (1951) – इसके द्वारा भारतीय संविधान मे 9वी अनुसूची को जोडा गया है.
    • 7वाॅ संविधान संशोधन (1956) – इसके द्वारा राज्यों का पुनर्गठन करके 14 राज्य और 6 केंद्र शासित प्रदेशों को पुनर्गठित किया गया है.
    • 10वाॅ संविधान संशोधन (1961) – इसके द्वारा पुर्तगालियों की अधीनता से मुक्त हुए दादरा और नागर हवेली को भारतीय संघ में शामिल किया गया.
    • 12वाँ संविधान संशोधन (1962) – इसके द्वारा गोवा, दमण और दीव का भारतीय संघ में विलय किया गया.
    • 14वाॅ संविधान संशोधन (1962) – इसके द्वारा पाण्डेचेरी को केंद्र शासित प्रदेशके रूप में भारत में विलय किया गया.
    • 18वाॅ संविधान संशोधन (1966) – इसके द्वारा पंजाब राज्य का पुर्नगठन करके पंजाब, हरियाणा राज्य और चण्डीगढ को केन्द्रशासित प्रदेश बनाया गया.
    • 21वाॅ संविधान संशोधन (1967) – इसके द्वारा 8 वी अनुसूची में सिन्धी भाषा को शामिल किया गया.
    • 24वाँ संविधान संशोधन (1971) – इसके द्वारा संसद को मौलिक अधिकारों सहित संविधान के किसी भी भाग में संशोधन करने का अधिकार दिया गया है.
    • 45वाॅ संविधान संशोधन (1974) – इसके द्वारा सिक्किम को भारतीय सघं में सह राज्य का दर्जा दिया गया.
    • 36वाॅ संविधान संशोधन (1975) – इसके द्वारा सिक्किम को भारतीय सघं में 22 वे राज्य के रूप में सम्मिलित किया गया.
    • 42वाॅ संविधान संशोधन (1976) – यह संविधान संशोधन प्रधानमंत्री इन्दिरा गाॅधी के समय स्वर्ण सिंह आयोग की सिफारिश के आधार पर किया गया था. यह अभी तक का सबसे बङा संविधान संशोधन है। इस संविधान संशोधन को लघु संविधान की संज्ञा दी जाती है. इस संविधान संशोधन में 59 प्रावधान थे.
    • 1.संविधान की प्रस्तावना में पंथ निरपेक्ष समाजवादी और अखण्डता शब्दों को जोडा गया.
    • 2. मौलिक कर्तव्यों को संविधान में शामिल किया गया.
    • 3.शिक्षा, वन और वन्यजीव, राज्यसूची के विषयों को समवर्ती सूची में शामिल किया गया.
    • 4.लोक सभा और विधान सभा के कार्यकाल को बढाकर 5 से 6 वर्ष कर दिया गया.
    • 5.राष्ट्रपति को मंत्रीपरिषद की सलाह के अनुसार कार्य करने के लिए बाध्य किया गया.
    • 6.ससंद द्वारा किये गये संविधान संशोधन को न्यायालय में चुनौती देने से वर्जित कर दिया गया है.
    • 44वाँ संविधान संसोधन (1978)
    • (1) सम्पत्ति के अधिकार को मौलिक अधिकारों से हटाकर कानूनी अधिकार बना दिया है.
    • (2) लोक सभा और विधान सभा का कार्यकाल पुनः घटाकर 5 वर्ष कर दिया गया.
    • (3) राष्ट्रीय आपात की घोषणा आंतरिक अशान्ति के आधार पर नहीं बल्कि सशस्त्र विद्रोह के कारण की जा सकती है.
    • (4) राष्ट्रपति को यह अधिकार दिया गया कि वह मंत्री मण्डल की सलाह को एक बार पुर्नविचार के लिए वापस कर सकता है. लेकिन दूसरी बार वह सलाह मानने के लिए बाध्य होगा.
    • 48वाॅ संविधान संशोधन (1984) -संविधान के अनुच्छेद 356 (5) में परिवतर्न करके यह व्यवस्था की गई कि पंजाब में राष्ट्रपति शासन की अवधि को दो वर्ष तक और बढाया जा सकता है.
    • 52वाँ संविधान संशोधन (1985) – इसके द्वारा संविधान में 10 वी अनुसूची को जोडकर दल बदल को रोकने के लिए कानून बनाया गया.
    • 56वाँ संविधान संशोधन (1987) – इसके द्वारा गोवा को राज्य की श्रेणी में रखा गया.
    • 61वाँ संविधान संशोधन (1989) – संविधान के अनुच्छेद 326 में संशोधन करके लोक सभा और राज्य विधान सभाओं में मताधिकार की उम्र 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष कर दी गई.
    • 71वाँ संविधान संशोधन (1992) – इसके द्वारा संविधान की 8 वी अनुसची में कोकणी , मणिपुरी, और नेपाली भाषाओं को जोडा गया.
    • 73वाँ संविधान संशोधन (1992) – इसके द्वारा संविधान में 11 वी अनुसची जोडकर सम्पूर्ण देश में पंचायती राज्य की स्थापना का प्रावधान किया गया.
    • 74वाँ संविधान संशोधन (1992) – इसके द्वारा संविधान में 12 वी अनुसूची जोडकर नगरीय स्थानीय शासन को संवैधानिक संरक्षण प्रदान किया गया.
    • 84वाँ संविधान संशोधन (2001) – इसके द्वारा 1991 की जनगणना के आधार पर लोक सभा और विधान सभा क्षेत्रों के परिसीमन की अनुमति प्रदान की गई.
    • 86वाँ संविधान संशोधन (2003) – इसके द्वारा प्राथमिक शिक्षा को मौलिक अधिकार की श्रेणी में लाया गया.
    • 91वाँ संविधान संशोधन (2003)
    • (1) इसके द्वारा केन्द्र और राज्यो के मंत्री परिषदों के आकार को सीमित करने तथा दल बदल को प्रतिबन्धित करने का प्रावधान है.
    • (2) इसके अनुसार मंत्री परिषद में सदस्यों की संख्या लोक सभा या उस राज्य की विधान सभा की कुल सदस्य संख्या से 15% से अधिक नहीं हो सकती है.
    • (3) साथ ही छोटे राज्यों के मंत्री परिषद के सदस्यों की संख्या अधिकतम 12 निश्चित की गई है.
    • 92वाँ संविधान संशोधन (2003) – इसके द्वारा संविधान की 8 वी अनुसूची में बोडो, डोगंरी, मैथिली और संथाली भाषाओं को शामिल किया गया है.
    • 103वाँ संविधान संशोधन – जैन समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा.
    • 108वाॅ संविधान संशोधन – महिलाओं के लिए लोकसभा व विधान सभा में 33% आरक्षण.
    • 109वाॅ संविधान संशोधन – पंचायती राज्य में महिला आरक्षण 33% से 50%.
    • 110वाॅ संविधान संशोधन – स्थानीय निकाय में महिला आरक्षण 33% से 50%.
    • 114वाँ संविधान संशोधन – उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की आयु 62 बर्ष से 65 बर्ष.
    • 115वाॅं संविधान संशोधन – GST (वस्तु एवं सेवा कर)
    • 117वाॅं संविधान संशोधन – SC व ST को सरकारी सेवाओं में पदोन्नति आरक्षण

    मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को (सम्पूर्ण भारत का संविधान- Indian Constitution) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को इस्सेे कफी जांकरी मिलि होगी दोस्तो अगर आप सम्पूर्ण भारत का संविधान- Indian Constitution की पूरी तरह से जांनकरी चह्तेे है तो दिये गये लिक से Download कर  सकते है।

    छात्र-छात्रों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी Indian Constitution को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे सभी Students छात्र-छात्रों दोस्तो को इस्से Help मिलेे और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी (competitive Exams, Study Material,PDF Notes ) आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

    Conclusion:-

    मेरी हमेशा से यही कोशिश रही है की मैं हमेशा अपने छात्र-छात्रों के लिए Daily प्रतियोगी परीक्षाओं (competitive Exams) मे हर तरह से हेल्प करूँ,यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह Post कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले. मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को  Social Networks जैसे कि WhatsApp Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये |

    मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है

    आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here